Wednesday, 21st August, 2019
Amazon
front
X

Breaking News

Aug-21-19 खुट्टी यादव हत्याकांड के अभियुक्त एडवोकेट चितरंजन सिंह को गोलियों से भुना

Divay Bharat / आज की खबर /31-Dec-2018/Viewed : 18

राष्ट्र निर्माण में मीडिया की भूमिका

खुट्टी यादव हत्याकांड के अभियुक्त एडवोकेट चितरंजन सिंह को गोलियों से भुना

आज देश के अन्दर सकारात्मक ख़बरों का जैसे घोर आभाव हो गया हो. चहुंओर नकारात्मकता के आवरण लिपटी ख़बरों को समाज, देश के समक्ष धडल्ले से परोसा जा रहा है. अपनी टीआरपी बढाने के कर्म में समाचार एजेंसिया इतनी मसरूफ हो गई है कि उन्हें इस बात की इल्म ही नहीं कि आने वाले समय में देश के ऊपर इसका कितना गंभीर असर पड़ेगा. सनसनीखेज और ब्रेकिंग न्यूज़ के रूप में ऐसी ख़बरों को प्रथम वरीयता दी जा रही जो किसी भी प्रकार से समाज एवं राष्ट्र के सम्यक विकास में हितकारी नहीं है. मीडिया के लिए लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ जैसे विशेषण का प्रयोग किया जाता है. इसको स्वायत संस्था के रूप में इसलिए मान्यता प्राप्त है जिससे वो देश के अन्दर घटित हो रहे आवंछित गतिविधियों को उजागर कर सके तथा राष्ट्र निर्माण में अपनी सर्वश्रेष्ठ भूमिका अदा कर सके.परन्तु शोक कि इन जिम्मेवारियों को निर्वहन करने के बजाये मिडिया आज औधोगिक घरानों के खबरों तथा बॉलीवुड सितारों के दैनिक जीवन के ख़बरों के साथ बलात्कार,हत्या ,चोरी,छिनैती जैसे नकरात्मक ख़बरों तक ही सिमटता जा रहा है. ऐसा नहीं कि समाज जागृति के दृष्टिकोण से ऐसी ख़बरों का महत्व नहीं है परन्तु ऐसी ख़बरों को ब्रेकिंग न्यूज़ के तौर पर समाज के सामने प्रस्तुत करना समाचार के गंभीरता पर प्रश्नवाचक चिन्ह खड़ा करते हैं. ऐसी ख़बरों से बार बार रूबरू होने के कारण पाठक सत्य एवं महत्वपूर्ण ख़बरों के सत्यता के ऊपर भी संदेह व्यक्त करने लगे हैं और ऐसा होना स्वभाविक भी है.  
            आज लोगों के अंदर घर कर रही तमाम किस्म के नकारात्मक विचारों के बिच मीडिया को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी ख़बरों से लोगों के दैनिक जीवन में तनाव बढ़ने के अपेक्षा एक ऐसा बदलाव हो जो उनके अन्दर की नकरात्मक विचारों को सकरात्मक स्वरुप प्रदान कर सके. और इसके लिए जनसरोकार से जुड़े मुद्दे को प्रथम वरीयता देना पत्रकारिता की प्रथम शर्त है. पत्रकारिता के नाम पर आज की पिली पत्रकारिता ने जनता के भरोसों को काफी हद तक प्रभावित किया है. दिव्य भारत मिडिया पत्रकारिता को लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप में मजबूती से स्थापित करने के साथ जनता में पत्रकारिता के प्रति पुनः विस्वास जागृत करने के लिए उनसे जुडी प्रत्येक मुद्दे को निष्पक्षता के साथ रखने हेतु दृढसंकल्पित है|

front
Apecial Offer
Aaj Ka Karyakaram