Monday, 09th December, 2019
Amazon
HEADAING
X

Breaking News

Dec-03-19 जानिए विक्रम को खोजने में नासा की मदद करने वाला भारतीय इंजीनियर के बारें में

Divay Bharat / राष्ट्रीय /11-Aug-2019/Viewed : 160

बक्सर की बेटी बोकारो में पढ़कर बनी सॉफ्टवेयर इंजिनियर, माइक्रो सॉफ्ट से मिला 43.30 लाख का सालाना पैकेज

जानिए विक्रम को खोजने में नासा की मदद करने वाला भारतीय इंजीनियर के बारें में

दिव्य भारत मीडिया, बक्सर डेस्क : चौसा प्रखंड के नरबतपुर की बेटी कनिष्का को माइकोसॉफ्ट कम्पनी में 43.30 लाख के सालाना पैकेज पर से चयन किया गया है। बताया जाता है कि एनआईटी जमशेदपुर में अबतक का यह सबसे बड़ा पैकेज है। कम्प्यूटर साइंस की छात्रा कनिष्का ने यह पैकेज हासिल कर जिले का नाम रोशन किया है। बेटी के सेलेक्शन पर माता-पिता समेत जिले के लोगों का खुशी का ठिकाना नहीं है।

बता दें कि चौसा के नरबतपुर गांव निवासी पिता महेंद्र कुमार सिंह व माता किरण देवी की इकलौती पुत्री कनिष्का को बचपन से ही इंजीनियर बनने की ख्वाइश थी। इसी को लक्ष्य करके उसने पढ़ाई भी की। पिता महेंद्र कुमार सिंह बोकारो स्टील प्लांट में काम करते थे। ऐसे में कनिष्का की प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा भी बोकारों में हुई। इंटर करने के बाद उसका चयन एनआईटी जमशेरपुर में हो गया। वहीं से बीटेक करने के दौरान ही उसका कैम्पस सेलेक्शन हुआ है।

कनिष्का ने बताया कि अबतक उसने जितना भी उपकरण प्रयोग की है, सब माइकोसॉफ्ट कम्पनी की है। फिलहॉल कनिष्का के पिता गुजरात में कार्ररत हैं। उसने बताया कि बेटी की पढ़ाई-लिखाई में उसने कोई कमी नहीं होने दी। एक बेटा है, वह भी इंजीनियर है

HEADAING
Apecial Offer
श्री राम कलेक्शन ड
Puja Special