Sunday, 22nd September, 2019
Amazon
front
X

Breaking News

Sep-20-19 अनुकरणीय : उदय कुमार उज्जैन ने अपने स्व० बाबूजी के याद में लगायें 400 वृक्ष

Divay Bharat / खेल कुद /16-Aug-2019/Viewed : 63

खेल अपडेट : रवि शास्त्री टीम इंडिया के कोच बने रहेंगे

अनुकरणीय : उदय कुमार उज्जैन ने अपने स्व० बाबूजी के याद में लगायें 400 वृक्ष

दिव्य भारत मीडिया, नई दिल्ली डेस्क : कपिल देव ने रवि शास्त्री को क्रिकेट कोच बनाए जाने की घोषणा करते हुए कहा कि इस दौड़ में न्यूज़ीलैंड के माइक हेसन दूसरे स्थान पर रहे जबकि ऑस्ट्रेलियाई टॉम मूडी तीसरे स्थान पर रहे. रवि शास्त्री 2017 में चैंपियंस ट्रॉफ़ी की समाप्ति के बाद से ही टीम इंडिया के हेड कोच बने हुए हैं. बतौर कोच शास्त्री के समय में टीम इंडिया टेस्ट और वनडे रैंकिंग में पहले पायदान पर पहुंची है. इसके अलावा टीम इंडिया ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में हराने का करिश्मा कर दिखाया. उनकी अगुवाई में टीम 2019 का वर्ल्ड कप नहीं जीत सकी, जहां उसे न्यूज़ीलैंड के हाथों सेमीफ़ाइनल में हार का सामना करना पड़ा था.

शास्त्री कैसे बने कोच?

रवि शास्त्री के अब तक के कार्यकाल में भारतीय टीम ने अब तक 60 वनडे मैचों, 21 टेस्ट मैचों और 36 टी-20 मैच खेले हैं. इसमें टीम इंडिया 43 वनडे, 13 टेस्ट और 25 टी-20 मुक़ाबलों में जीत हासिल की है. शास्त्री का पलड़ा किन वजहों से भारी रहा, ये सवाल पूछे जाने पर समिति में शामिल अंशुमन गायकवाड़ ने बताया, "शास्त्री को सिस्टम के बारे में और टीम के खिलाड़ियों को अच्छे से पता है. उनकी टीम के खिलाड़ियों से अच्छा संवाद है और उनकी कम्यूनिकेशन स्किल भी बहुत अच्छी है."वहीं कपिल देव ने बताया, "पहले तीनों में बहुत अंतर नहीं रहा. हमलोगों ने 100 में अपने अपने अंक इन कोचों को दिए. आपस में कोई बात नहीं की. शास्त्री को मामूली बढ़त ही मिली थी. हेसन और मूडी भी अच्छे कोच हैं."

कपिल देव की अगुवाई वाली समिति ने पांच उम्मीदवारों का इंटरव्यू किया.

रवि शास्त्री के अलावा न्यूज़ीलैंड के पूर्व कोच और किंग्स इलेवन पंजाब के कोच माइक हेसन और श्रीलंकाई के पूर्व कोच और सनराइजर्स हैदराबाद के कोच टॉम मूडी का इंटरव्यू किया गया. इसके अलावा समिति ने चार बार की आईपीएल चैंपियन मुंबई इंडियंस के कोच रॉबिन सिंह और भारतीय टीम के कई मौकों पर मैनेजर रहे लालचंद राजपूत का भी इंटरव्यू इस समिति ने किया. जबकि वेस्टइंडीज के क्रिकेट और कोच फिल सिमंस ने आख़िरी मौके पर अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली थी.ख़ास बात यह रही है कि इस बार टीम इंडिया के कोच के चयन के दौरान, भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली से कोई राय नहीं ली गई थी.बताया जा रहा है कि अगले कोच को 2021 के आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप तक का कार्यकाल दिया जाएगा. यानी अगले दो सालों के लिए रविशास्त्री के जिम्मे ही भारतीय क्रिकेट को तराशने का काम रहेगा. कुल मिलाकर ये चौथा मौका है जब रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट टीम के साथ जुड़े हैं. 2007 में बांग्लादेश दौरे के वक्त वे टीम इंडिया के क्रिकेट मैनेजर थे.2014 से 2016 तक रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट टीम के साथ डायरेक्टर के तौर पर जुड़े थे. इसके बाद 2017 से 2019 तक वे टीम इंडिया के हेड कोच थे.

कपिल देव की अगुवाई वाली समिति ने पांच उम्मीदवारों का इंटरव्यू किया.

रवि शास्त्री के अलावा न्यूज़ीलैंड के पूर्व कोच और किंग्स इलेवन पंजाब के कोच माइक हेसन और श्रीलंकाई के पूर्व कोच और सनराइजर्स हैदराबाद के कोच टॉम मूडी का इंटरव्यू किया गया.

इसके अलावा समिति ने चार बार की आईपीएल चैंपियन मुंबई इंडियंस के कोच रॉबिन सिंह और भारतीय टीम के कई मौकों पर मैनेजर रहे लालचंद राजपूत का भी इंटरव्यू इस समिति ने किया.

जबकि वेस्टइंडीज के क्रिकेट और कोच फिल सिमंस ने आख़िरी मौके पर अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली थी.

ख़ास बात यह रही है कि इस बार टीम इंडिया के कोच के चयन के दौरान, भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली से कोई राय नहीं ली गई थी.

बताया जा रहा है कि अगले कोच को 2021 के आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप तक का कार्यकाल दिया जाएगा. यानी अगले दो सालों के लिए रविशास्त्री के जिम्मे ही भारतीय क्रिकेट को तराशने का काम रहेगा.

कुल मिलाकर ये चौथा मौका है जब रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट टीम के साथ जुड़े हैं. 2007 में बांग्लादेश दौरे के वक्त वे टीम इंडिया के क्रिकेट मैनेजर थे.

2014 से 2016 तक रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट टीम के साथ डायरेक्टर के तौर पर जुड़े थे. इसके बाद 2017 से 2019 तक वे टीम इंडिया के हेड कोच थे.

front
Apecial Offer
श्री राम कलेक्शन ड
Aaj Ka Karyakaram