Friday, 15th November, 2019
Amazon
HEADAING
X

Breaking News

Nov-09-19 रामजन्मभूमि न्यास को विवादित जमीन, मुस्लिम पक्ष को मिले अलग जगह

Divay Bharat / बड़ी ख़बर /03-Sep-2019/Viewed : 133

अब नहीं मिलेंगे शिखर, विमल और सर पान मसाला, 12 तरह के मसालों पर पहले हो चुकी है कार्रवाई

रामजन्मभूमि न्यास को विवादित जमीन, मुस्लिम पक्ष को मिले अलग जगह

दिव्य भारत मीडिया, पटना डेस्क :  शिखर पान मसाला, विमल पान मसाला और सर पान मसाला पर भी सोमवार से खाद्य संरक्षा आयुक्त ने तत्काल प्रभाव से बैन लगा दिया है. पान मसाला बैन होने की सूची में इन तीन ब्रांडों को भी शामिल किया गया है. खाद्य संरक्षा आयुक्त संजय कुमार इस मामले में आदेश जारी कर चुके हैं. आदेश में कहा गया है कि अगस्त में तीन और पान मसालों के नमूनों की जांच की गई थी जिसमें मैगनीशियम कार्बोनेट पाया गया. इससे हार्ट अटैक का खतरा रहता है. बता दें कि शुक्रवार को सरकार ने 12 तरह के पान मसालों रजनीगंधा पान मसाला, राजनिवास पान मसाला, सुप्रीम पान पराग मसाला, पान पराग, बहार पान मसाला, बाहुबली पान मसाला, राजनिवास फ्लेवर पान मसाला, राजश्री पान मसाला, रौनक पान मसाला, सिग्नेचर फाइनेस्ट पान मसाला, पान पराग पान मसाला, कमला पसंद पान मसाला, मधु पान मसाला, बाहुबली पान मसाला को प्रतिबंधित कर दिया गया है अब तक कुल 15 तरह के पान मसालों पर बैन लगाया जा चुका है. 

बता दें कि बिहार में शराबबंदी के बाद लोगों के स्वास्थ्य के मद्देनजर पान मसाला पर भी शुक्रवार को प्रतिबंध लगा दिया गया था. फिलहाल यह प्रतिबंध एक साल के लिए लगाया गया है. बिहार के खाद्य संरक्षा आयुक्त संजय कुमार ने शुक्रवार को कहा था, "कुल 12 पान मसाला कंपनियों पर पूरे राज्य में 30 अगस्त से एक वर्ष की अवधि तक पैकेट या खुले रूप में विनिर्माण, भंडारण, परिवहन, प्रदर्शन और बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है."  

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि भारतीय संविधान के अनुसार राज्य सरकार अपने लोगों को पोषाहार स्तर और जीवन स्तर को ऊंचा करने और जन स्वास्थ्य के सुधार करने हेतु स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पदार्थो के उपभोग को प्रतिबंधित कर सकती है. 

HEADAING
Apecial Offer
श्री राम कलेक्शन ड
Puja Special