Sunday, 22nd September, 2019
Amazon
front
X

Breaking News

Sep-20-19 अनुकरणीय : उदय कुमार उज्जैन ने अपने स्व० बाबूजी के याद में लगायें 400 वृक्ष

Divay Bharat / साहित्य एवं संस्कृति /05-Sep-2019/Viewed : 80

Teachers Day: दुनिया भर में 5 अक्टूबर, तो भारत में 5 सितंबर को क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस

अनुकरणीय : उदय कुमार उज्जैन ने अपने स्व० बाबूजी के याद में लगायें 400 वृक्ष

दिव्य भारत मीडिया, नई दिल्ली डेस्क : हमारे देश में 5 सितंबर शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह खास दिन राष्ट्र निर्माण में टीचर्स के योगदान के लिए उनके सम्मान में सेलिब्रेट किया जाता है। हर कोई अपने-अपने तरीके अपनी जिंदगी में शिक्षकों के योगदान के लिए उन्हें आभार जताता है। हमारे देश में 1962 से 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। शिक्षक दिवस पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती के मौके पर मनाया जाता है। 

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के पहले उप-राष्ट्रपति, दूसरे राष्ट्रपति, महान दार्शनिक, बेहतरीन शिक्षक, स्कॉलर और राजनेता थे। राधाकृष्णन को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी नवाजा गया था। राधाकृष्णन एक बेहतरीन शिक्षाविद थे और राष्ट्रनिर्माण करने के लिए युवाओं को तैयार करने के लिए समर्पित थे। 
1962 में जब राधाकृष्णन ने राष्ट्रपति का पद ग्रहण किया था। उसी साल से उनके सम्मान में उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। स्टूडेंट और टीचर की जिंदगी में इस दिन का विशेष महत्व है। स्कूल और कॉलेजों में इस दिन को धूमधाम से मनाया जाता है। वैसे तो टीचर और स्टूडेंट के रिश्ते में एक अनुशासन होता है लेकिन इस दिन स्टूडेंट्स अपने टीचर को खुलकर बताते हैं कि वे कितने स्पेशल हैं। बता दें कि भारत में टीचर्स डे राधाकृष्णन के जन्मदिन के मौके पर मनाया जाता है लेकिन बाकी देशों में 5 अक्टूबर को टीचर्स डे मनाया जाता है। 

अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस 
हर साल 5 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस मनाया जाता है। 5 अक्टूबर, 1966 को पैरिस में अंतरसरकारी सम्मेलन का आयोजन हुआ था जिसमें 'टीचिंग इन फ्रीडम' संधि पर हस्ताक्षर किया गया था। दरअसल इस संधि में शिक्षकों के अधिकार एवं जिम्मेदारी, भर्ती, रोजगार, सीखने और सिखाने के माहौल से संबंधित सिफारिशें की गई थीं। इसी दिन 1997 में आयोजित एक सम्मेलन में उच्चतर शिक्षा से जुड़े शिक्षकों की स्थिति को लेकर की गई यूनेस्को की अनुशंसाओं को अंगीकृत किया गया था। पढ़ाई के पेशे को प्रोत्साहित करने के लिए यूनेस्को द्वारा हर साल इस दिन को मनाया जाता है। 

front
Apecial Offer
श्री राम कलेक्शन ड
Aaj Ka Karyakaram