Saturday, 07th December, 2019
Amazon
HEADAING
X

Breaking News

Dec-03-19 जानिए विक्रम को खोजने में नासा की मदद करने वाला भारतीय इंजीनियर के बारें में

Divay Bharat / राष्ट्रीय /10-Mar-2019/Viewed : 189

प्रधानमंत्री ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चौसा थर्मल पावर प्लांट का किया शिलान्यास,जानिए इस प्लांट के बारें में

जानिए विक्रम को खोजने में नासा की मदद करने वाला भारतीय इंजीनियर के बारें में

बक्सर : पीएम मोदी ने शनिवार को दिल्ली एनसीआर के ग्रेटर नोएडा में एक रैली को संबोधित करते हुए बड़ी सौगातें दीं जिसमें उन्होंने बिहार के बक्सर जिले को बड़ी सौगात देते हुए चौसा थर्मल पावर प्लांट का शिलान्यास किया।

पीएम मोदी ने बक्सर के लोगों को धन्यवाद देते हुए कहा कि बिहार को इस प्लांट से काफी बिजली मिलेगी और बिहार में बिजली की स्थिति सुधरेगी। इससे  उद्योग धंधे बढ़ेंगे। पहले की सरकारों ने इसपर ध्यान नहीं दिया था। उन्होंने बताया कि इस परियोजना की 85 प्रतिशत बिजली बिहार खरीदेगा।

केन्द्रीय कैबिनेट ने बक्सर में 1320 मेगावाट के थर्मल पावर प्लांट पर सहमति प्रदान कर दी थी। इसके साथ ही लगभग एक दशक पुरानी परियोजना के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। यहां पर 660 मेगावाट की दो-दो यूनिट लगेगी। बिजलीघर का निर्माण 2023-24 तक पूरा हो जाएगा और इसपर 10439 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसका निर्माण केन्द्रीय उर्जा मंत्रालय की मिनी रत्न पीएसयू सतलज जल विद्युत निगम (एसजेवीएनएल) करेगी। बिजलीघर का 85 फीसदी बिजली बिहार को मिलेगा।

बिहार में वर्ष 2008 में तीन स्थानों पर बिजलीघर लगाने की योजना बनी थी। इनमें बक्सर के चौसा, भागलपुर के पीरपैंती और लखीसराय के कजरा में 1320-1320 मेगावाट क्षमता के बिजलीघर स्थापित की जानी थी। पहले तो इन स्थानों पर थर्मल पावर प्लांट स्थापित होना था। बाद में राज्य सरकार ने कजरा और पीरपैंती में सोर पावर प्लांट लगाने की योजना पर काम शुरु किया। हालांकि चौसा में थर्मल पावर प्लांट की योजना पर काम होता रहा। बिहार ने केन्द्र से इसके लिए मदद भी मांगी।

वर्ष 2013 में इसके निर्माण के लिए एसजेवीएनएल और पावर होल्डिंग कंपनी के बीच एमओयू किया गया। पर, 2015 से इस योजना पर गंभीरता से काम शुरु हो पाया। वर्ष 2016 में डीपीआर अपडेट किया गया जबकि 2017 में कोल लिंकेज का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया। इस दौरान परियोजना को पर्यावरण क्लीयरेंस, चिमली की ऊंचाई, जमीन, पानी का क्लीयरेंस भी मिल गया। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पहले ही पूरी हो चुकी है। वर्ष 2023- 24 तक चौसा प्लांट से बिजली मिलेगी।

शाहाबाद के विकास के लिए ये परियोजना अहम है। कार्यक्रम में केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री, अश्विनी चौबे, बिजेंद्र यादव भी शामिल थे। मिनी रत्न एसजेवीएन पॉवर कंपनी प्लांट लगाएगी।

HEADAING
Apecial Offer
श्री राम कलेक्शन ड
Puja Special